Teri duniya - Urdu Shayari Teri duniya

Teri duniya

Teri duniya aaj kuchh khaas nahi
Tu khush hokar bhi aabad nahi hai


Ki thi jo tune mujh se bewafai
Uski hi saza tujhe aaj mil rahi hai


तेरी दुनिया आज कुछ ख़ास नही हैं
तू खुश होकर भी आबाद नही है


की थी जो तूने मुझसे बेवफाई
उसकी सजा तुझे आज मिल रही हैं

Post a Comment

0 Comments