meri adhuri khahani - Urdu Shayari meri adhuri khahani

meri adhuri khahani

Mene kaha nahi tune suna nahi,
Mein tuhje chahata hu ye tune abhi jana nahi

Likhta hu tere liye nagme kayi,
Par Tu hai ki kuch jaanti he nahi

Sunayunga tujhko mere har ek dard bhare nagme
Bas sun lena mere liye,

Ban jay tu meri,
Tho badal jaye duniya sari

Hogi puri tabhi meri, ye Adhuri khahani


मेंने कहा नहीं तूने सुना नहीं
मैं तुझे चाहता हू ये तूने कभी जाना नहीं,
 
लिखता हू तेरे लिए नगमे कई
पर तू है कि कुछ जानती ही नहीं ,
 
सुनाऊँगा तुझे मेरे हर एक दर्द भरे नगमे
बस सुन लेना मेरे लिए,  

बन जाए तू मेरी
तो बदल जाए दुनिया सारी,  

होगी पूरी तभी, मेरी ये अधुरी कहानी



Post a Comment

0 Comments