Ek zamana tha - Urdu Shayari Ek zamana tha

Ek zamana tha

Wo bhi ek zamana tha
Jab kisi ka dil mere liye deewana tha


Meri kismat me likhi thi judai uski
Uska rooth jana toh sirf ek bahana tha


Usne mujhe aajmaya bahot hai
Ja-Ja kar maine manaya bhot hai


Bewafai toh unka dastoor ho gya
Unki mohabbat me ye dil choor ho gya



Sach pucho toh kasoor unka nahi mera tha, mere dost
Hamne unhe chaha itna ki unhe khud par guroor ho gya…



वो भी एक ज़माना था 
जब किसी का दिल
मेरे लिए दीवाना था 

मेरी किस्मत मे लिखी थी जुदाई उसकी 
उसका रूठ जाना तो सिर्फ़ एक बहाना था 

उसने मुझे आजमाया बहोत है 
जा-जा कर मैंने मनाया भोत है 

बेवफ़ाई तो उनका दस्तूर हो गया 
उनकी मोहब्बत मे ये दिल चूर हो गया 

सच पूछो तो कसूर उनका नहीं मेरा था , मेरे दोस्त 
हमने उन्हे चाहा इतना कि उन्हे खुद पर गुरूर हो गया



#Shayari #sad Shayari #hindi shayari

Post a Comment

0 Comments