Dillagi.. - Urdu Shayari Dillagi..

Dillagi..

Tujhe haasil nahi pyaar karna hai,
Tujhe pana nahi tera didar karna hai...


Tujhe dekh kar raakh ho gaye Saare deewane,

Us raakh main aapna naam shumar karna hai...

Tujhe aapna banana hai,

Dillagi kya hoti hai tujhe batana hai,

Aaj tujhe nahi tere rooh ko churana hai...

Dillagi yahi mera afsana hai... 



तुझे हासिल नहीं प्यार करना है,

मुझे पाना नहीं तेरा दिदार करना है... 



तुझे देख कर राख हो गए सारे दिवाने,

उस राख में अपना नाम शुमार करना है,


तुझे अपना बनाना है

दिल्लगी क्या होतीं हैं, तुझे बताना है



आज तुझे नहीं तेरे रुह को चुराना है....

दिल्लगी यही मेरा अफसाना है.. 




Post a Comment

0 Comments